Flutter क्या है | What is Flutter in Hindi[पूरी जानकारी 2021]

क्या अपने पहले कभी Flutter के बारे में सुना है ? क्या आप जानना चाहते है की flutter का इस्तेमाल क्यों किया जाता है ? अगर आपका जवाब है हाँ तो आप बिलकुल ही सही जगह आए है |

दोस्त आपका हिंदी topia में स्वागत है जहाँ आपको आपके सवाल के जवाब एवं तरह तरह की जानकारिय मिलती है | आज में आपको Flutter technology के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ |

आज में आपको बता वाला हूँ की Flutter क्या है ? Flutter का इस्तेमाल क्या है ? Flutter से क्या बनाया जाता है ? इत्यादि और Flutter के बारे में पूरी जानकारी दूँगा |

Flutter क्या है

Flutter एक UI toolkit है जिसकी मदद से एक code से आप mobile, web, desktop के application आसानी से सुंदरता से और जल्दी बना सकते है | यह free और open source है | इसे Google द्वारा बनाया गया था और इसे ECMA standard द्वारा संभाला जाता है | Flutter में dart programming के इस्तेमाल से application बनाए जाते है |

Flutter के बारे में पूरी जानकारी लेने के इस पोस्ट को पूरा पढ़े क्योंकि ऐसी जानकारी आपको internet में कही भी नही मिलेगी | तो चलिए जल्दी से इस पोस्ट को शुरू किया जाए |

Flutter क्या है ? – What is Flutter in Hindi ?

जैसे की आप जानते होंगे की एक मोबाइल application बनाना कितना complex और चैलेंज से भरा काम है और बहुत सारे framework मौजूद है जिसकी मदद से मोबाइल application बनाई जाती है |

Mobile Apps को बनाने के लिए, Android एक native framework प्रदान करता है जिससे java और kotlin language से बनाया जाता है और वही IOS के framework को Objective-C/Swift language द्वारा बनाया जाता है | तो अलग operating system के लिए अलग अलग framework मौजूद है | इसी दुविधा को हटाने के लिए कुछ नए framework और tool kits को बनाया गया जिसकी मदद से एक application किसी भी OS पे काम करे और साथ ही desktop application की तरह भी काम करे | इस तरह के framework को cross-platform development tool कहा जाता है |

यह Cross-Platform development tool ऐसे tool होते है जिनकी मदद से लिखे एक code से ही हार platform, जैसे की Android, IOS, Web, Desktop पर काम करने वाले application बनाए जा सकते है | यह developers की मेहनत और समय दोनों ही बचाता है | ऐसे ही एक Cross Platform framework या development toolkit है Flutter जिसे Google ने बनाया है |

Flutter एक UI toolkit है जिसकी मदद से cross – platform application को सुन्दर और जल्दी बनाया जाता है और जिसे एक ही code में लिखा जाता है परन्तु वो mobile, web, desktop सब मे चल जाता है |  यह open source और free development tool है | Flutter को Google द्वारा बनाया गया था और अब इसे ECMA standard द्वारा संभाला जाता है | Flutter में application बनाने के लिए dart programming का इस्तेमाल किया जाता है |

Flutter का इतिहास – A brief History of Flutter in Hindi

Flutter एक free और open source UI software development kit है जिसे Google द्वारा बनाया गया था | इसकी मदद से Android, IOS, Desktop और Web application बनाए जाते है | Flutter का सबसे पहला version २०१५ में Dart Developer Summit के दौरान announce किया गया था | उसे पहले codename “Sky” नाम से कहा जाता था जोकि Android OS पे काम करता था | Flutter की announcement के बाद Flutter का Alpha version (v-0.06), May 2017 में रिलीज़ किया गया था |

बाद में Google ने Flutter का दूसरा preview, September 2018 में Shanghai के Google Developer Summit में किया था |  December ४, 2018 में सबसे पहला Flutter का stable version release किया गया था Flutter Live event में और इसे Flutter 1.0 कहा गया | Flutter का सबसे current stable version है v1.9.1+hotfix.6 जिसे October 2४, 2019 में रिलीज़ किया गया था |

Flutter के Features – Features of Flutter in Hindi

Flutter में बहुत से अच्छे अच्छे features उपलब्ध है, बहुत सारे widgets और Material Design के sets मौजूद है जिसकी वजह से आप सुन्दर और interactive mobile एवं desktop application बना सकते है | चलिए उनके features के बारे में देखते है –

  • Open source : Flutter एक free और open source framework है |
  • Cross-platform : इस features से आप Flutter में आप एक बार code करके application बनाते है तो उसे mobile, web, desktop हर जगह चलाया जा सकता है, तीनों के लिए अलग code लिखने की जरुरत नही होती और यह हमारा समय और मेहनत बचाता है |
  • Hot Reload : जब भी application के code मैं आप कुछ changes करेंगे तो उसके परिणाम app में तुरंत दिख जाते है इस Hot Reload features की मदद से | यह एक बहुत ही अच्छा feature है जिसकी मदद से developers आसानी bug fix कर देते है |
  • Minimal code : Flutter app को dart programming से बनाया जाता है, जो की JIT और AOT compilation feature का इस्तेमाल करते है performance Time को तेज़ करता है और startup time, functioning को improve करता है | JIT development system को enhance करता है और UI को बिना ज्यादा मेहनत के refresh कर नया बना देता है |
  • Widgets  : Flutter framework, widgets के feature को प्रदान करता है जिसकी मदद से customizable design बनाए जा सकते है | Flutter हमे २ widget set प्रदान करता है : Material Widgets और Cupertino Widgets, इन दोनों की मदद से आप सभी platform के लिए glitch free applications बना सकते है | 

Flutter के Advantage – Advantage of Flutter in Hindi

Flutter के इस्तेमाल से आप अपने मन चाहे जरुरत एवं requirement के application बना सकते है | Flutter हमे बहुत सारे advantages देता है, चलिए देखते है :

  • यह अपने Hot-reload features की मदद से app development के process बहुत ही तेज़ कर देता है | Flutter में application बहुत जल्दी बनाया जा सकता है |
  •  Flutter में बने application बहुत ही smooth चलते है, वे बिना hang या कट के एकदम मक्खन जैसे चलते है | दूसरे mobile application framework के मुकाबले Flutter के app ज्यादा smooth होते है |
  • Flutter application testing के समय और मेहनत दोनों को बचाता है, क्योंकि एक code base से ही mobile, web और desktop तीनों app काम करते है |
  • इसके बने user interface बहुत ही ला जवाब होते है, क्योंकि flutter में बहुत ही अच्छे अच्छे features मौजूद है, जैसे design-centric widget, high-development tool, advance APIs और बहुत सारे features   
  • यह reactive framework जैसा है जिसमे इसके UI content को manually बदलने की जरुरत नही होती |
  • यह MVP (Minimum Viable Product) apps बनाने के लिए बहुत ही अच्छा है क्योंकि इसमें development process बहुत fast है और यह cross platform भी है |

Flutter के Disadvantage – Disadvantage of Flutter in Hindi

अभी आपने Flutter के Advantages के बारे में जाना, परन्तु जैसे सभी चीज़ों मन कुछ कमियाँ होती है Flutter के भी कुछ Disadvantages है :

  • क्योंकि Flutter एक बहुत नया है इसीलिए अभी इसमें support की कमी है जिसपर काम भी चलते रहता है |
  • इसमें इस्तेमाल होने वाला SDK library सीमित है जिसका मतलब है developers बहुत ही कम functionalities का इस्तेमाल अभी करते है, परन्तु समय के साथ जैसे flutter पुराना होगा यह दिक्कत भी ख़तम हो सकती है |
  • Flutter, Dart programming के इस्तेमाल से application बनाता जिसके वजह से developers एक नया language और technology सीखना पड़ता है |   

Flutter को कैसे और कहाँ से सीखे ?

Flutter को सीखना बहुत ही आसानी है और इसकी मदद से बहुत ही आसानी से application बनाए जा सकते है | 

चलिए अब आपको बताता हूँ की आप Flutter को कैसे और कहाँ से सीख सकते है |

Flutter को आप चाहे तो बिलकुल ही free या पैसे लगा कर भी सिख सकते है | Flutter को आप Youtube पे बिलकुल ही मुफ्त (free) में सिख सकते है |

Youtube में आपको बहुत से flutter के tutorials हिंदी भाषा में उपलब्ध मिलेंगे जिसे देख कर आप आसानी से flutter development सिख सकते है |

Flutter को आप Udemy से भी सिख सकते है | Udemy एक website एवं app है जहाँ हर तरह के कोर्स उपलब्ध है |

Flutter के paid course आप Udemy से भी ले सकते है और course को पूरा करने के बाद Udemy आपको उस course का certificate भी देता है |

Flutter को सीखने एक सबसे अच्छा तरीका है खुद flutter द्वारा दिया हुआ official documentation जो की flutter के official website, flutter.dev पे उपलब्ध है | उस documentation को पढ़ पढ़ के आप flutter सिख सकते है |

How to earn money with flutter in Hindi ?

आप flutter development सिख के पैसे कैसे कम सकते है ?

Flutter पर development सीख के आप २ तरीकों से पैसे कमा सकते है :

  1. Flutter डेवलपर जॉब 
  2. खुद के app बनके 

आप flutter development सिख के किसी भी software या आईटी कंपनी में flutter डेवलपर के Job के लिए apply कर सकते है और पैसे कम सकते है |

आप flutter development सीख के अपना खुद का app बना सकते है और उसमे ads एवं in-app purchase डाल के  उसे playstore पर publish कर सकते है और उससे भी पैसे कम सकते है |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!