क्रिप्टोग्राफ़ी क्या है | What is Cryptography in Hindi

क्या अपने क्रिप्टोग्राफ़ी (cryptography) के बारे में सुना है ? क्या आप जानना चाहते है की क्रिप्टोग्राफ़ी क्या है ? क्या आप भी क्रिप्टोग्राफ़ी के बारे में पूरी जानकारी लेना चाहते है ?

अगर आपका जवाब हाँ है तो आप बिकुल ही सही जगह पर आए है | आज हम इस आर्टिकल में आपको क्रिप्टोग्राफ़ी के बारे में पूरी जानकारी देंगे |

क्रिप्टोग्राफ़ी क्या है | What is Cryptography in Hindi

क्रिप्टोग्राफ़ी आज के कंप्यूटर युग का बहुत ही जरुरी और प्रशिद्ध technology है | आएये आपको इसके बारे मन विस्तार में जानकारी देता हूँ |

क्रिप्टोग्राफ़ी क्या है | What is Cryptography in Hindi

क्रिप्टोग्राफ़ी एक ऐसी तकनीक है जिससे पूरी शुरक्षा के साथ आपकी सुचना या message को भेजा जा सकता है ताकि इसे भेजने वाले और पढने वाले के सिवाए इसे कोई और नही पढ़ सकता | इस प्रकार आपके data को secure किया जा सकता है | उपसर्ग “क्रिप्ट” का अर्थ है “छिपा हुआ” और प्रत्यय ग्राफी का अर्थ है “लेखन”।

क्रिप्टोग्राफी में जो तकनीकों का उपयोग सूचना की रक्षा के लिए किया जाता है, वे गणितीय अवधारणाओं और नियम आधारित गणनाओं के एक सेट से होते हैं, जिन्हें संदेशों को उन तरीकों से परिवर्तित करने के लिए algorithm के रूप में जाना जाता है, जो इसे डिकोड (decode) करना कठिन बनाते हैं।

इन algorithms का उपयोग cryptographic key generation, digital signing, verification to protect data privacy, internet पर web ब्राउज़िंग और क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड लेनदेन जैसे गोपनीय लेनदेन की सुरक्षा के लिए किया जाता है।

क्रिप्टोग्राफ़ी की तकनीक (Techniques of cryptography)

आज के युग में कंप्यूटर की क्रिप्टोग्राफी अक्सर उस प्रक्रिया से जुड़ी होती है जहां एक plain text को cypher text में बदल दिया जाता है, जो कि ऐसा टेक्स्ट होता है जिसे सिर्फ रिसीवर को ही डिकोड decode करने बाद मिलता है और इसलिए इस प्रक्रिया को एन्क्रिप्शन(encryption) के रूप में जाना जाता है।

Cipher text को वापस plain text में बदल देने के प्रक्रिया को decryption कहा जाता है |

Cryptography के feature (Features of Cryptography)

  1. Confidentiality(गोपनीयता)

सूचना केवल उसी व्यक्ति तक पहुँचाई जा सकती है जिसके लिए यह अभिप्रेत है और उसके अलावा कोई अन्य व्यक्ति उस तक नहीं पहुंच सकता।

  1. Integrity(अखंडता)

भेजे जाने वाली जानकारी में किसी भी तरह की छेड़ छाड़ नही की जासकती और न की उसमे कुछ भी जोड़ा जा सकता है | जो जानकारी भेजने वाला भेजना चाहता है वोह जानकारी उसी रूप में पढने वाले तक पहुँच जाती है |

  1. Non-repudiation(गैर परित्याग)

जानकारी के निर्माता / प्रेषक बाद में मंच पर जानकारी भेजने के अपने इरादे से इनकार नहीं कर सकते।

  1. Authentication(प्रमाणीकरण)

प्रेषक और रिसीवर की पहचान की पुष्टि की जाती है। साथ ही गंतव्य / सूचना की उत्पत्ति की पुष्टि की जाती है।

Cryptography के प्रकार (Types of cryptography in hindi)

Cryptography के तीन प्रकार होते है :

  1. Symmetric Key Cryptography:
    यह एक एन्क्रिप्शन प्रणाली (encryption system) है जहाँ संदेश भेजने वाला और प्राप्त करने वाला संदेश भेजने और संदेशों को डिक्रिप्ट (decrypt) करने के लिए एक ही सामान्य कुंजी (common key) का उपयोग करता है |Symmetric key cryptography तेज और सरल हैं लेकिन समस्या यह है कि प्रेषक(sender) और रिसीवर(receiver) को किसी तरह सुरक्षित तरीके से key का आदान-प्रदान करना होगा। सबसे popular (लोकप्रिय) symmetric key cryptography system है Data Encryption (DES).  
  1. Hash Functions:
    इस algorithm में किसी भी key का इस्तेमाल नहीं किया जाता है | निश्चित लंबाई के साथ एक हैश मान की गणना सादे पाठ के अनुसार की जाती है जो सादे पाठ की सामग्री को पुनर्प्राप्त करना असंभव बनाता है। कई ऑपरेटिंग सिस्टम पासवर्ड को एन्क्रिप्ट(encrypt) करने के लिए हैश फ़ंक्शन (hash function) का ही उपयोग किया जाता हैं|
  1. Asymmetric Key Cryptography:
    इस प्रणाली के तहत सूचनाओं को एन्क्रिप्ट(encrypt)और डिक्रिप्ट (decrypt) करने के लिए keys के pair का उपयोग किया जाता है| एन्क्रिप्शन के लिए एक public key का उपयोग किया जाता है और डिक्रिप्शन के लिए एक private key का उपयोग किया जाता है। Private key और public key दोनों हे अलग अलग होते है | अगर सभी लोगों के पास public key हो तभी उससे सिर्फ receiver ही decode कर सकता है क्योंकि सिर्फ उसी के पास private key होती है |

आपने क्या सिखा

दोस्तों, मुझे उम्मीद है की आज की पोस्ट को पढने के बाद आपको Cryptography क्या है? इस प्रश्न का जवाब मिल गया होगा | अगर आपको आज की पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस पोस्ट को अपने लोगों के साथ जरूर share करें |

अगर आपको computer, technology के बारे में और जानना है तो हमारे आर्टिकल जरुर पढ़े|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!