Angular JS क्या है और क्यों इस्तेमाल होता है ? What is Angular JS in Hindi [2021]

क्या अपने AngularJS के बारे में सुना है ? आपका हिंदी topia के इस पोस्ट में स्वागत है और आज में आपको AngularJS के बारे में पूरी जानकारी देने वाला हूँ और आपको बताऊंगा, AngularJS क्या है ? AngularJS का क्यों इस्तेमाल किया जाता है ? AngularJS के features in हिंदी, AngularJS के advantages क्या है? और बहुत कुछ | चलिए इस पोस्ट को शुरू करते है|

AngularJS एक javascript framework है जिसके इस्तेमाल से web applications बनाये जाते है |

यह एक बहुत ही शक्तिशाली javascript framework है , और इसे single page application (SPA) projects बनाने में इस्तेमाल किया जाता है |

Angular JS क्या है

AngularJS HTML DOM को कुछ अन्य attributes को extend करता है और इसके मदद से user responsive application बना सकते है | ये open source, free javascript framework है |

इसे हज़ारों डेवलपर इस्तेमाल करते है और इसका license, Apache license version 2.0 के अन्दर आता है |

चलिए अब Angular JS के बारे में पूरी जानकारी बताता हूँ |

Angular JS क्या है? What is Angular JS in Hindi

AngularJS एक open-source web application framework है | इसे २००९ में Misko Hevery और Adom Abrons द्वारा बनाया गया था , जिसे अब Google द्वारा maintain किया जाता है |

AngularJS का लेटेस्ट version १.८.x है जिसका long term support 31st December 2021 तक दिया गया है |

AngularJS का इस्तेमाल single-page web applications बनाने के लिए होता है | इसका एक ही लक्ष्य है development और testing के process को आसान बनाना |

यह एक structural framework जिसके इस्तेमाल से dynamic web application बनाया जाता है | यह HTML का इस्तेमाल template के तौर पर किया जाता है | इसके data-binding और dependency injection जैसे features की वजह से code बहुत ही छोटा और आसान हो जाता है |

चलिए अब अगर features की बात आ ही गयी है तो आपको इसके features के बारे में बताता हूँ |

Also Read:

Angular JS के General features – General features of Angular JS in Hindi

आइये Angular JS के कुछ आम features देखते है –

  • Angular JS एक efficient framework है जिसकी मदद से Rich Internet Applications (RIA) बनाया जाता है |
  • AngularJS developers को javascript की मदद से client-side application बनाने में मदद करती है , MVC (Model View Controller)तरीके से |
  • AngularJS पे लिखे हुए application cross-browser होते है , AngularJS javascript को browser के हिसाब से संभालता है |

Angular JS के इस्तेमाल से large scale, high-performance और easy-to-maintain web applications बनाये जातें है |

Angular JS के Core features – Core features of Angular JS in Hindi

आइये अब Angular के core features को देखते है :

  • यह data binding के feature इस्तेमाल करता है, जिसका मतलब है की model और view कॉम्पोनेन्ट के बीच data का synchronisation automatic होता है |
  • यह scope के feature का इस्तेमाल करता है , scope वे objects होते है जो की मॉडल को रेफेर करते है |
  • यह controller का इस्तेमाल करता है जो की एक javascript function को scope से जोड़ता है |
  • AngularJS बहुत सारे built-in services के साथ आता है जैसे की $http जिससे XMLHttpRequest किये जाते है |
  • यह routing feature के साथ आता है , routing views switching तकनीक है |
  • यह MVW (Model View Whatever) design pattern को इस्तेमाल करता है और application को अलग अलग भागों में बाटता है , जैसे model, view, controller.यह MVC को पुराने तरीके से इस्तेमाल नहीं करता है ,पर थोड़ा MVVM(Model-view View-model) जैसा काम करता है और Angular JS की टीम इससे MVW बुलाती है |
  • AngularJS पहले से बने Dependency injection subsystem के साथ आता है , जो developers को application बनाने, समझने एवं testing में आसन बनाता है |

Angular JS के Advantage – Advantages of Angular JS in Hindi

चलिए अब जानते है Angular JS को इस्तेमाल करने के क्या फ़ायदे है :

  • AngularJS से आप बहुत ही clean और maintainable तरीके से single-page application बना सकते है |
  • यह HTML के साथ data binding capability प्रदान करता है जिससे user को responsive application मिलता है |
  • AngularJS के code यूनिट testable होते है |
  • AngularJS dependency injection को इस्तेमाल करता है |
  • AngularJS हमें reusable component प्रदान करता है |
  • AngularJS के इस्तेमाल से आप कम code में ज्यादा functionality पा सकते है |
  • AngularJS में view pure HTML होता है, और controllers javascript में लिखे होते है जो प्रोसेसिंग का काम करते है |

Angular JS के Disadvantage – Disadvantages of Angular JS in Hindi

भले ही Angular JS कई सारे खूबियों के साथ आता है परन्तु इसके कुछ खामियां भी भी है :

  • Not secure AngularJS में लिखे गए हुए applications secured नही होते है |
  • Not degradableअगर आप application में से javascript को disable कर दिया जाये तो फिर basic पेज के अलावा आपको कुछ भी दिखाई नहीं देगा |

Angular JS कहाँ से डाउनलोड करे – Download Angular JS

AngularJS को डाउनलोड करने के लिए आप AngularJS के official website से उसे download कर सकते है |

Angular JS code example

चलिए अब  देखते है Angular JS का code कैसा दीखता है :

<html>
   <head>
      <title>AngularJS Application</title>
   </head>
   
   <body>
      <h1>Sample Application</h1>
      
      <div ng-app = "">
         <p>Enter your Name: <input type = "text" ng-model = "name"></p>
         <p>Hello <span ng-bind = "name"></span>!</p>
      </div>
      
      <script src = "https://ajax.googleapis.com/ajax/libs/angularjs/1.3.14/angular.min.js">
      </script>
      
   </body>
</html>

चलिए अब देखते है Angular JS के लिए आपको पहले से क्या क्या चीजें सीखी हुई होनी चाहिए |

Prerequisites

Angular JS सीखने से पहले आपको JavaScript आना आवश्यक है ,और आपको बाकि web technologies जैसे की HTML, CSS, AJAX के बारे में भी पता होना चाहिए |

Conclusion

तो दोस्त आज की पोस्ट में अपने जाना की AngularJS क्या होता है और इसका इस्तेमाल क्यों होता है , आपने यह भी जाना की AngularJS किस तरह काम करता है | अपने यह भी जाना की AngularJS को बाकी javascript framework के मुकाबले ज्यादा पसंद किया जाता है |

मैं आशा करता हूँ की मेरे बताए गए पोस्ट से आपको AngularJS की पूरी जानकारी हो गई होगी |

अगर आपको AngularJS के बारे में कुछ और जानना हो या बताना हो तो हमे बे झिझक comments करे, हमे आपकी सहायता कर और आपसे कुछ नया सीख बेहद ख़ुशी होगी |

मैं मिलता हूँ आपसे एक नये पोस्ट के साथ जो बनाएगा आपके coding Journey को और भी आसान तब तक के लिए जहाँ भी रहे कुछ नया सीखते रहे और coding करते रहे |

ज्ञान की ऊंचाइयों को पाए !!

हिंदी Topia 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!