10 Lines On Swami Vivekananda in Hindi

हमारे भारत माता की मिट्टी से जन्मे हजारों महापुरुषों में से एक महापुरुष स्वामी विवेकानंद भी थे | स्वामी विवेकानंद एक ऐसे महापुरुष थे, जिन्होंने अपना पूरा जीवन देश और देश की संस्कृति को आगे बढ़ाने में झोंक दिया |

10 Lines On Swami Vivekananda in Hindi

ऐसी कई सारी चीज़े है, जो की हम स्वामी विवेकानंद जी के विचारो से सिख सकते है | और उन विचारों पर चल अपने जीवन को एक सार्थक और समृद्ध दिशा दे सकते है |

आज के इस लेख (10 Lines On Swami Vivekananda in Hindi) में हम आपको स्वामी विवेकानंद जी से ही जुड़ी कुछ बातें बताने वाले है, जिन्हें पढ़कर आपका मन प्रफुल्लित हो उठेगा |

तो दोस्तों बिना कोई समय व्यर्थ करे, चलिए आरंभ करते है |

10 Lines On Swami Vivekananda in Hindi

  1. स्वामी विवेकानंद जी एक प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे |
  2. स्वामी विवेकानंद जी का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता (वर्तमान कोलकाता) में हुआ था |
  3. स्वामी विवेकानंद जी के पिता का नाम विश्वनाथ दत्त और माता जी का नाम भुवनेश्वरी देवी था |
  4. स्वामी विवेकानंद जी के पिता कलकत्ता उच्च न्यालय में एक प्रशिध वकील थे |
  5. स्वामी विवेकानंद जी के जन्मदिन को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है |
  6. सन्यास ग्रहण करने से पूर्व स्वामी विवेकानंद की का औपचारिक नाम नरेन्द्रनाथ दत्त था |
  7. स्वामी विवेकानंद जी के गुरु जी का नाम रामकृष्ण परमहंस था |
  8. स्वामी विवेकानंद जी ने 1 मई 1897 में में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की |
  9. स्वामी विवेकानंद जी ने 1893 में शिकागो में आयोजित विश्व धर्मं महासभा में भारत की और से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व किया था |
  10. स्वामी विवेकानंद जी ने 4 जुलाई 1902 को ध्यानवस्था में महासमाधि ग्रहण कर ली |

5 Lines on Swami Vivekananda in Hindi

  1. स्वामी विवेकानंद जी वेदांत के विख्यात ज्ञानी थे |
  2. स्वामी विवेकानंद जी बचपन का घर का नाम वीरेश्वर था |
  3. स्वामी विवेकानंद जी बचपन से ही काफी बुद्दिमान और धार्मिक व्यक्ति थे |
  4. स्वामी विवेकानंद जी ने पैदल ही पुरे भारतवर्ष की यात्रा की थी |
  5. स्वामी विवेकानंद जी एक कर्मयोगी भी थे | वे कहते थे, उठो जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त नहीं हो जाता |

Few Lines on Swami Vivekananda in Hindi

  1. स्वामी विवेकानंद जी ने सयुंक्त राज्य अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोप के देशों में सनातन धर्म के सिधान्तो का प्रचार प्रसार किया |
  2. स्वामी विवेकानंद जी का परिवार काफी धार्मिक था, जिससे इन्हें बचपन से ही आध्यात्मिक वातावरण मिला |
  3. स्वामी विवेकानंद जी शास्त्रीय संगीत में भी प्रशिक्षित थे |
  4. स्वामी विवेकानंद जी मकौले द्वारा दिए गए अंग्रेजी शिक्षा व्यवस्था के विरोधी थे, क्योंकि इस शिक्षा का उद्देश्य केवल श्रमिक तैयार करना था |
  5. स्वामी विवेकानंद जी के अनुसार शिक्षा का उद्देश्य विद्यार्थियों को आत्मा निर्भर बनाना होना चाहिए |
  6. स्वामी विवेकानंद जी के अनुसार शिक्षा ऐसी होनी चाहिए, जिससे बालक का शारीरिक, मानसिक और आत्मिक विकास हो सके |
  7. स्वामी विवेकानंद जी सादा जीवन जीने में विश्वास रखते थे |
  8. स्वामी विवेकानंद जी नारी का काफी सम्मान किया करते थे |
  9. स्वामी विवेकानंद जी ने अपने जीवन काल में कई सारे देशों का भ्रमण किया |
  10. जब स्वामी विवेकानंद जी शिकागो में भाषण देने गए, तो उन्होंने सभी को “मेरे अमरीकी बहनों और भाइयो” कह कर संबोधित किया | इससे उन्होंने वह मौजूद सभी का दिल जीत लिया |
  11. स्वामी विवेकानंद जी को ये दृढ़ विश्वास था की, आध्यात्मिक विद्या और भारत दर्शन के बिना ये विश्व अनाथ हो जायेगा |

10 Lines on Swami Vivekananda in English

  1. Swami Vivekananda was an influential spiritual master.
  2. Swami Vivekananda was born on 12 January 1863 in Calcutta (Present day Kolkata).
  3. Swami Vivekananda’s father’s name was Vishwanath Dutt and mother’s name was Bhuvaneshwari Devi.
  4. Swami Vivekananda’s father was an eminent lawyer in the Calcutta High Court.
  5. Swami Vivekananda’s birthday is celebrated as National Youth Day.
  6. Before taking retirement, the formal name of Swami Vivekananda was Narendranath Datta.
  7. The name of Swami Vivekananda’s guru was Ramakrishna Paramhansa.
  8. Swami Vivekananda founded the Ramakrishna Mission on 1 May 1897.
  9. Swami Vivekananda represented Sanatan Dharam from India’s side in the Vishwa Dharma Mahasabha held in Chicago in 1893.
  10. Swami Vivekananda took Mahasamadhi on 4th July 1902 in his meditative state.

5 Lines on Swami Vivekananda in English

  1. Swami Vivekananda was a famous scholar of Vedanta.
  2. Swami Vivekananda’s childhood home name was Vireshwar.
  3. Swami Vivekananda was a very intelligent and religious person since childhood.
  4. Swami Vivekananda traveled all over India on foot.
  5. Swami Vivekananda was also a Karmayogi. He used to say, “Arise, awake and stop not till the goal is achieved”.

Few Lines on Swami Vivekananda in English

  1. Swami Vivekananda propagated the principles of Sanatan Dharma in the United States of America, England and the countries of Europe.
  2. Swami Vivekananda family was very religious, as a result he got a spiritual environment from his childhood.
  3. Swami Vivekananda was also trained in classical music.
  4. Swami Vivekananda was opposed to the English education system given by Makoula, because the purpose of this education was only to produce employees.
  5. According to Swami Vivekananda, the aim of education should be to make the students self-dependent.
  6. According to Swami Vivekananda, education should be such that the physical, mental and spiritual development of the child can take place.
  7. Swami Vivekananda believed in living a simple life.
  8. Swami Vivekananda used to respect women a lot.
  9. Swami Vivekananda visited many countries during his lifetime.
  10. When Swami Vivekananda went to deliver a speech in Chicago, he addressed everyone as “My American sisters and brothers“. With this he won the hearts of everyone present.
  11. Swami Vivekananda had a firm belief that without spiritual education and philosophy of India, this world would be an orphan.

आपने क्या सिखा 

मुझे उम्मीद है की आज का ये लेख (10 Lines On Swami Vivekananda in Hindi) पढ़ने के बाद आपको स्वामी विवेकानंद जी से जुड़ी काफी नए तथ्य जानने को मिले होंगे |

हम सभी को स्वामी विवेकानंद जी के आदर्शो पर चलना चाहिए, इसे हमारे व्यक्तित्व में काफी निखार आ जायेगा | और हम भी अपने जीवन को एक सार्थक उद्देश्य दे पाएंगें |

अगर आपको ये लेख अच्छी लगी हो, तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले | मैं मिलता हूँ, आपसे ऐसे ही किसी और ज्ञानवर्धक लेख के साथ, तब तक के लिए जहा भी रहे कुछ नया और अनोखा सीखते रहिये |

जय हिंद, वन्दे मातरम् !!

इन्हें भी पढ़े :-

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!